Thursday, June 14, 2012

खुदा

चल आजा खुदा .
एक कौर नमक-रोटी खा ले ;
एक घूंट पानी पी ले .
पता नहीं कितने दिन हुए.... तुने खाया न होंगा .
मैं जानता हूँ न ,
तेरी दुनिया के बंदे तुझे चैन से जीने नहीं देते है !!!

4 comments:

  1. Kya imagination hai Sir apka....Khuda ko hi bechara bana diya....wah..... I love it......

    ReplyDelete
  2. सच में बन्दों को मांगने से फुर्सत मिले तो खुदा को कुछ चैन मिले ....बहुत खूब

    ReplyDelete
  3. क्या बात है विजय भाई ....
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete